साइकिल से ही यूरोप अफ्रीका व अरब देशों को पार कर सोरों जी पहुंचे रूसी यात्री मिखायू,




साइकिल से ही यूरोप अफ्रीका व अरब देशों को पार कर सोरों जी पहुंचे रूसी यात्री मिखायू,

(अमित तिवारी) सोरों जी : साइकिल से ही चार महादीपों के दर्जनों देशों को पार कर रूस के एक मनोवैज्ञानिक मिखायू जो कि शुक्रवार दोपहर भारत की तीर्थ नगरी सोरों जी पहुंचे, यहां कुछ समय बिताकर वह बरेली पीलीभीत होकर नेपाल की ओर निकल गए,  



मिखायू से मेरी मुलाकात कासगंज सोरों जी के बीच गोरहा पर हुयी, वह साइकिल चलाते हुए सोरों जी की ओर जा रहे थे, मैंने आदरपूर्वक उन्हें रोककर अपना परिचय देते हुए उनकी इस रोमांचकारी साइकिल यात्रा के बारे में विस्तृत पूंछतांछ की, उन्होंने अपना नाम मिखायू उर्फ़ मिखाइल कोर्किन बताया, उन्होंने बताया कि वह रूस स्थित मोस्को शहर के निवासी हैं, वह साइकिल से विश्व भ्रमण करने के लिए 25 मई 2017 को निकले थे,




वह साइकिल द्वारा अपने देश रूस से बेलारूस पोलेंड चेक-गणराज्य ऑस्ट्रिया इटली फ़्रांस स्पेन मोरक्को मॉरिटानिया सेनेगल गुएना घाना टोगो बेनिन कैम्बरोन  गैबन कांगो नाम्बिया साउथ अफ्रीका वोट्सवाना जाम्बिया तंजानिया केन्या  इथोपिया सूडान मिस्र जॉर्डन सीरिया लेबनोन तुर्की इराक व ईरान होते हुए भारत के शहर मुंबई पहुंचे, मुंबई से वह गोवा बैंगलोर चेन्नई अंबिकापुर वाराणसी व आगरा होते हुए कासगंज और फिर तीर्थ नगरी सोरों पहुंचे, 



सोरों जी पहुँचने तक वह तक़रीबन 35 हज़ार किलोमीटर की साइकिल यात्रा पूरी कर चुके हैं, वह प्रतिदिन 100 किलोमीटर की साइकिल यात्रा कर रहे हैं, रूस से निकलने के बाद उनकी यह तीसरी साइकिल है, इससे पूर्व उनकी दो साइकिलें खराब हो चुकीं हैं, उन्होंने बताया कि वह साइकिल से ही पूरा विश्व घूमेंगे,



वह कहते हैं कि इस पूरी यात्रा के दौरान सिर्फ पाकिस्तान ने उन्हें ट्रांजिट वीजा नहीं दिया, इसलिए उन्हें ईरान से भारत में दाखिल होने के लिए वाया फ्लाइट मुंबई आना पड़ा, वह पाकिस्तान के रवैये से बेहद निराश दिखे,




सोरों जी पहुंचकर मिखायू ने हमसे (अमित तिवारी) व नरेन्द्र पालीवाल जी के साथ हरि की पौड़ी पर कुछ वक्त विताया, हमने उन्हें सोरों जी की महिमा के बारे में विस्तृत जानकारी दी, 




सोरों जी के बारे में जानकर वह बेहद प्रसन्न हुए, उन्होंने तुलसी स्मारक आदि पौराणिक स्थलों की फोटोग्राफी की, 



तत्पश्चात हम लोगों ने नगर पालिका के पास एक चाय की दुकान पर कुल्हड़ की चाय का आनंद लिया, फिर कोतवाली प्रभारी रिपुदमन जी व अपने पत्रकार मित्र सौरभ यादव सोनू दुवे व अश्वनी महेरे से मुलाक़ात कर रूसी साइकिल यात्री मिखायू बरेली की ओर निकल गए,


जाते जाते मिखायू ने हम लोगों से कहा कि आप लोगों से मिलकर उन्हें बेहद ख़ुशी हुयी है,

Comments

webmedia.page

गंगा एक्सप्रेसवे बनने से कासगंज की तराई हो सकती है आर्थिक गलियारे के रूप में विकसित।

कासगंज: वेस्ट सेल्फी इन द वर्ल्ड - छोटे शहर से इंटरनेशनल स्टार्टअप।

सोरों जी के संदर्भ में उद्योगपति रामगोपाल दुबे ने की राष्ट्रपति से मुलाकात, अब अगली मुलाकात में भी सोरों जी के सर्वांगीण विकास को लेकर होनी है विस्तृत चर्चा।

हज़ारों चीखें न निकलें उससे पहले इसकी कराह सुन ली जाए तो बेहतर है,

कासगंज के आरके मिश्रा ने डिजाइन किया था तेजस का कॉकपिट- दशकों बाद अब वायुसेना में शामिल हुआ भारत का यह पहला लड़ाकू विमान,

कासगंज : ग्यारवीं के छात्रों द्वारा बनाई साइकिल दे रही है 50 का माइलेज।