इस जाति की 95 फीसदी आबादी आज भी है अशिक्षित,




इस जाति की 95 फीसदी आबादी आज भी है अशिक्षित,

(अमित तिवारी) सोरों जी/कासगंज : तीर्थ स्थल सोरों जी में रह रहे रमईया जाति की 95 फीसदी आबादी आज भी अशिक्षित है, बांकी 5 फीसदी लोग भी दसवीं से अधिक पढ़े लिखे नहीं है, वहीँ अगर महिलाओं की बात की जाये तो वह 100 फीसदी अशिक्षित हैं,  


सोरों जी में इनकी आबादी 15 सौ और वहीँ देशभर में तक़रीबन डेढ़ लाख के आसपास, हैरत की बात यह है कि शिक्षा के नाम पर सरकार द्वारा चलाये जा रहे तमाम अभियान से यह वर्ग आज भी अछूता क्यों है, एक बुजुर्ग से हमने बात की तो उनका कहना था कि सैकड़ों साल पूर्व उनकी जाति के लोग खानाबदोश की जिंदगी व्यतीत करते थे, कुछ मजदूरी तो अधिकतर भीख मांगकर अपना गुजारा करते थे, उनके बच्चे भी भीख मांगने का काम करने लगे, 


दो वक्त की रोटी और चार पैसे के चक्कर में उन्होंने अपने बच्चों को कभी स्कूल नहीं भेजा, जिसके कारण अज उनकी समूची जाति अशिक्षित रह गयी, गरीबी और अशिक्षा के कारण आज वह पूर्ण रूप से बेरोजगार हैं,



अशिक्षा से जागरूकता की कमी ने उन्हें बेहद कमजोर बना दिया है,  आज मजदूरी और भीख मांगने के अलावा अब उनका दूसरा कोई पेशा नहीं है, कुछ अशिक्षित बच्चे तो गैर कानूनी कृत्यों की तरफ भी आकर्षित हो रहे हैं,
शासन प्रशासन को चाहिए कि इस जाति के सभी उम्र के लोगों के लिए विशेष शिक्षण शिविर लगाये ताकि इनकी अशिक्षा दूर होने के साथ साथ इनका उत्थान हो सके, 

Comments

webmedia.page

साइकिल से ही यूरोप अफ्रीका व अरब देशों को पार कर सोरों जी पहुंचे रूसी यात्री मिखायू,

गंगा एक्सप्रेसवे बनने से कासगंज की तराई हो सकती है आर्थिक गलियारे के रूप में विकसित।

कासगंज: वेस्ट सेल्फी इन द वर्ल्ड - छोटे शहर से इंटरनेशनल स्टार्टअप।

सोरों जी के संदर्भ में उद्योगपति रामगोपाल दुबे ने की राष्ट्रपति से मुलाकात, अब अगली मुलाकात में भी सोरों जी के सर्वांगीण विकास को लेकर होनी है विस्तृत चर्चा।

हज़ारों चीखें न निकलें उससे पहले इसकी कराह सुन ली जाए तो बेहतर है,

कासगंज के आरके मिश्रा ने डिजाइन किया था तेजस का कॉकपिट- दशकों बाद अब वायुसेना में शामिल हुआ भारत का यह पहला लड़ाकू विमान,

कासगंज : ग्यारवीं के छात्रों द्वारा बनाई साइकिल दे रही है 50 का माइलेज।