(अमित तिवारी): जाति और विकास का समीकरण-एटा/कासगंज लोकसभा।



(अमित तिवारी): जाति और विकास का समीकरण-एटा/कासगंज लोकसभा।


फेसबुक पोल के मुताबिक एटा/कासगंज लोकसभा सीट पर 40 फीसदी लोगों की मंशा जातिय व 60 फीसदी लोगों की मंशा विकास के आधार पर वोट करने की है,
बदलते वक्त में वोट करने का जातिय फेक्टर अब कमजोर पड़ने लगा है, 40 फीसदी के मुकाबले 60 फीसदी लोग विकास के मुद्दे पर वोट करने की बात कह रहे हैं,
आने वाले वक्त में विकास को तरजीह देने वाला यह 60 फीसदी तबका बढ़कर और ज्यादा हो सकता है,

हालांकि पिछले चुनावों में उम्मीदवारों की जीत के पीछे जातीय फेक्टर का बोलबाला रहा है ,

एक अनुमान के मुताबिक यह उक्त जातिय आंकड़े एटा/कासगंज लोकसभा सीट पर सटीक बैठते हैं, जो प्रत्येक चुनाव में राजनैतिक दावेदारी को प्रभावित करते रहे हैं,



Comments

webmedia.page

साइकिल से ही यूरोप अफ्रीका व अरब देशों को पार कर सोरों जी पहुंचे रूसी यात्री मिखायू,

गंगा एक्सप्रेसवे बनने से कासगंज की तराई हो सकती है आर्थिक गलियारे के रूप में विकसित।

कासगंज: वेस्ट सेल्फी इन द वर्ल्ड - छोटे शहर से इंटरनेशनल स्टार्टअप।

हज़ारों चीखें न निकलें उससे पहले इसकी कराह सुन ली जाए तो बेहतर है,

सोरों जी के संदर्भ में उद्योगपति रामगोपाल दुबे ने की राष्ट्रपति से मुलाकात, अब अगली मुलाकात में भी सोरों जी के सर्वांगीण विकास को लेकर होनी है विस्तृत चर्चा।

कासगंज के आरके मिश्रा ने डिजाइन किया था तेजस का कॉकपिट- दशकों बाद अब वायुसेना में शामिल हुआ भारत का यह पहला लड़ाकू विमान,

कार में लिफ्ट देकर लूट लेते थे, कासगंज पुलिस ने धर दबोचा।