अमित तिवारी : वर्ष 1952 से 2019 तक एटा लोकसभा का मतदान प्रतिशत-वर्ष 1977 की छठवीं लोकसभा में सबसे अधिक 66.96 प्रतिशत मतदान हुआ, उसके बाद वर्ष 1998 की वारहवीं लोकसभा दूसरे स्थान पर रही जिसमें 63.87 प्रतिशत मतदान दर्ज हुआ, और अब वर्ष 2019 में सत्रहवीं लोकसभा का 62.65 प्रतिशत मतदान जो कि तीसरे स्थान पर रहा है, वहीँ वर्ष 2009 की पंद्रहवीं लोकसभा का मतदान सबसे न्यूनतम स्तर पर रहते हुए केवल 44.46 प्रतिशत ही था,



अमित तिवारी : वर्ष 1952 से 2019 तक एटा लोकसभा का मतदान प्रतिशत-वर्ष 1977 की छठवीं लोकसभा में सबसे अधिक 66.96 प्रतिशत मतदान हुआ,  उसके बाद वर्ष 1998 की वारहवीं लोकसभा दूसरे स्थान पर रही जिसमें 63.87 प्रतिशत मतदान दर्ज हुआ,  और अब वर्ष 2019  में सत्रहवीं लोकसभा का  62.65 प्रतिशत मतदान जो कि तीसरे स्थान पर रहा हैवहीँ वर्ष 2009 की पंद्रहवीं  लोकसभा का मतदान सबसे न्यूनतम स्तर पर रहते हुए केवल 44.46 प्रतिशत ही था,



एटा की पहली लोकसभा पर वर्ष  1952 में  46.23 प्रतिशत मतदान हुआ,
दूसरी लोकसभा पर वर्ष  1957 में 54.67 प्रतिशत 
तीसरी लोकसभा पर वर्ष  1962 में 56.45 प्रतिशत,  
चौथी लोकसभा पर वर्ष  1967 में 58.84 प्रतिशत,
पांचवीं  लोकसभा  पर वर्ष  1971 में 57.46 प्रतिशत,  
छठवीं लोकसभा  पर वर्ष  1977  में 66.96 प्रतिशत 
सातवीं लोकसभा  पर वर्ष  1980  में 47.43 प्रतिशत 
आठवीं लोकसभा  पर वर्ष  1984 में 54.38 प्रतिशत 
नौंवीं लोकसभा  पर वर्ष  1989 में  54.04 प्रतिशत 
दसवीं लोकसभा  पर वर्ष  1991 में 55.5 प्रतिशत 
ग्याहरवीं  लोकसभा पर वर्ष  1996 में 46.49 प्रतिशत,
वारहवीं  लोकसभा पर वर्ष  1998 में 63.87 प्रतिशत 
तेरहवीं लोकसभा  पर वर्ष  1999 में 57.39 प्रतिशत  
चौदहवीं लोकसभा पर वर्ष  2004 में 52.03 प्रतिशत,
पंद्रहवीं  लोकसभा पर वर्ष  2009 में 44.6 प्रतिशत,
सोलहवीं  लोकसभा पर वर्ष  2014 में 58.72 प्रतिशत 
सत्रहवीं लोकसभा पर वर्ष  2019 में 62.65 प्रतिशत मतदान हुआ 

Comments

webmedia.page

साइकिल से ही यूरोप अफ्रीका व अरब देशों को पार कर सोरों जी पहुंचे रूसी यात्री मिखायू,

गंगा एक्सप्रेसवे बनने से कासगंज की तराई हो सकती है आर्थिक गलियारे के रूप में विकसित।

कासगंज: वेस्ट सेल्फी इन द वर्ल्ड - छोटे शहर से इंटरनेशनल स्टार्टअप।

सोरों जी के संदर्भ में उद्योगपति रामगोपाल दुबे ने की राष्ट्रपति से मुलाकात, अब अगली मुलाकात में भी सोरों जी के सर्वांगीण विकास को लेकर होनी है विस्तृत चर्चा।

हज़ारों चीखें न निकलें उससे पहले इसकी कराह सुन ली जाए तो बेहतर है,

कासगंज के आरके मिश्रा ने डिजाइन किया था तेजस का कॉकपिट- दशकों बाद अब वायुसेना में शामिल हुआ भारत का यह पहला लड़ाकू विमान,

कासगंज : ग्यारवीं के छात्रों द्वारा बनाई साइकिल दे रही है 50 का माइलेज।