कासगंज के आरके मिश्रा ने डिजाइन किया था तेजस का कॉकपिट- दशकों बाद अब वायुसेना में शामिल हुआ भारत का यह पहला लड़ाकू विमान,





कासगंज के आरके मिश्रा ने डिजाइन किया था तेजस का कॉकपिट- दशकों बाद अब वायुसेना में शामिल हुआ भारत का यह पहला लड़ाकू विमान,
टोही विमान निशांत की डिजाइन में भूमिका से लेकर साइंटिस्ट अब्दुल कलाम के साथ भी काम कर चुके हैं आरके मिश्रा,

(अमित तिवारी) कासगंज। भारत में ही बना पहला स्वदेशी लड़ाकू विमान तेजस हाल ही में वायुसेना में शामिल किया गया है, इसी वर्ष 21 फ़रवरी दिन गुरूवार को लड़ाकू विमान तेजस को लेकर फाइनल ऑपरेशनल क्लियरेंस दिया जा चुका है, 
तेजस भारत का पहला स्वदेशी लड़ाकू विमान है जिसे बनाने में जनपद कासगंज के क़स्बा पटियाली निवासी पूर्व एरोनोटिकल साइंटिस्ट आरके मिश्रा महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर चुके हैं, आरके मिश्रा पटियाली के स्वर्गीय गुलजारी लाल मिश्रा के पुत्र व बरिष्ठ सपा नेता नीरज मिश्रा के चाचा जी हैं,

दशकों पूर्व साइंटिस्ट आरके मिश्रा भारत के साइंटिस्ट व पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम के साथ भी कई सीक्रेट मिशन पर काम कर चुके हैं,

वर्ष 2006 में रिटायर्ड हो चुके सत्तर वर्षीय एरोनोटिकल साइंटिस्ट आरके मिश्रा से हमने तेजस के निर्माण में उनकी भूमिका को लेकर ख़ास बातचीत की,



साइंटिस्ट आरके मिश्रा जी ने हमें बताया कि वर्ष 1995 से लेकर वर्ष 2006 तक वह भारत के पहले पूर्ण स्वदेशी तेजस लड़ाकू विमान बनाने बाली भारतीय एरोनोटिकल डेवलपमेंट एजेंसी के शीर्ष पांच सदस्यीय वैज्ञानिक दल का हिस्सा रहे,


साइंटिस्ट आर के मिश्रा जी के मुताबिक उन्होंने आधुनिक वायु सेना की अधिक से अधिक सामरिक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए तेजस लड़ाकू विमान का कॉकपिट डिस्प्ले मोनिटर डिजाइन किया था,

मिश्रा जी ने तेजस विमान की कुछ खूबियों के बारे में बताया कि यह दुनिया का सबसे छोटा हल्का, बहु भूमिका वाला एकल इंजन वाला एक सामरिक लड़ाकू विमान है, मिश्रा जी कहते हैं कि तेजस में एक बेहद विश्वसनीय क्वाड्रप्लेक्स डिजिटल फ्लाई-बाय-वायर फ्लाइट कंट्रोल सिस्टम शामिल है, 
नई पीढ़ी के ग्लास कॉकपिट में मल्टी फंक्शन डिस्प्ले (एमएफडी)हेड अप डिस्प्ले (एचयूडी) और स्टैंड बाय इंस्ट्रूमेंटेशन सिस्टम शामिल हैं, जो ओपन आर्किटेक्चर मिशन और डिस्प्ले कंप्यूटर द्वारा संचालित हैं, यह प्रभावी मानव मशीन इंटरफेस (एचएमआई प्रदान करता है, वहीँ उन्नत उपयोगिता और स्वास्थ्य प्रबंधन प्रणाली एक ओपन आर्किटेक्चर कंप्यूटर (ओएसी) के माध्यम से इसमें स्थापित सिस्टम पायलट को स्वास्थ्य सम्बन्धी जानकारियाँ व चेतावनी प्रदान करता है।


प्रमुख यांत्रिक प्रणाली में माइक्रोप्रोसेसर नियंत्रित, ब्रेक प्रबंधन प्रणाली पर्यावरण नियंत्रण प्रणाली, ईंधन प्रणाली नाक पहिया संचालन प्रणाली लैंडिंग गियर प्रणाली हाइड्रोलिक प्रणाली माध्यमिक विद्युत प्रणाली,  जीवन समर्थन प्रणाली व एस्केप सिस्टम शामिल हैं, इसके अलावा अन्य तमाम खूबियों से लेस तेजस लड़ाकू विमान एक बहु-भूमिका वाला विमान है जो व्यापक वायु श्रेष्ठता और वायु रक्षा भूमिकाओं में बेहद सक्षम है।

भारत के इस पूर्ण स्वदेशी लड़ाकू विमान तेजस के भारतीय वायुसेना में शामिल होने की खबर सुनकर पूर्व एरोनोटिकल साइंटिस्ट आर के मिश्रा जी आजकल बेहद उत्साहित हैं, ख़ुशी जाहिर करते हुए वह कहते हैं कि उनके जीवन की एक बड़ी राष्ट्रहित परिकल्पना जो कि भारतीय रक्षा संसाधनों का एक ख़ास हिस्सा बनी है, ऐसा सोचकर वह बेहद गर्व का अनुभव करते हैं,


तेजस की कॉकपिट डिजाइन करने के अलावा पूर्व एरोनोटिकल साइंटिस्ट आर के मिश्रा जी ने भारत के पहले स्वदेशी मानव रहित टोही विमान अर्थात यूएवी निशांत को भी डिजाइन करने में अहम भूमिका का निर्वहन किया था, 

Comments

webmedia.page

साइकिल से ही यूरोप अफ्रीका व अरब देशों को पार कर सोरों जी पहुंचे रूसी यात्री मिखायू,

गंगा एक्सप्रेसवे बनने से कासगंज की तराई हो सकती है आर्थिक गलियारे के रूप में विकसित।

कासगंज: वेस्ट सेल्फी इन द वर्ल्ड - छोटे शहर से इंटरनेशनल स्टार्टअप।

सोरों जी के संदर्भ में उद्योगपति रामगोपाल दुबे ने की राष्ट्रपति से मुलाकात, अब अगली मुलाकात में भी सोरों जी के सर्वांगीण विकास को लेकर होनी है विस्तृत चर्चा।

हज़ारों चीखें न निकलें उससे पहले इसकी कराह सुन ली जाए तो बेहतर है,

कासगंज : ग्यारवीं के छात्रों द्वारा बनाई साइकिल दे रही है 50 का माइलेज।