शौंचालय की किश्त न मिलने से नाराज़ ग्रामीणों ने किया मतदान वहिष्कार का ऐलान






शौंचालय की किश्त न मिलने से नाराज़ ग्रामीणों ने किया मतदान वहिष्कार का ऐलान

(अमित तिवारी) कासगंज : जनपद ओडीएफ घोषित हो चुका है, ऐसे में अगर कोई कहे कि किसी गांव में एक भी शौंचालय पूर्ण नहीं हैं तो व्यवस्था तंत्र पर सवाल उठना लाजमी है, हम बात कर रहे हैं जनपद कासगंज के ग्राम फतेहपुर की, ग्राम फतेहपुर जो कि ग्राम पंचायत कुचरानी व विकास खंड सिढ्पुरा का हिस्सा है, बिना शौंचालय पूर्ण हुए ग्राम पंचायत कुचरानी फतेहपुर को ओडीएफ घोषित  किया जा चुका है,  



ग्राम फतेहपुर के अधिकतर  ग्रामीणों  द्वारा आगामी लोकसभा सामान्य निर्वाचन में मतदान न करने की बात कही जा रही है, इस वहिष्कार के पीछे की बजह सरकार द्वारा पूर्व में आवंटित शौंचालय की दूसरी किश्त जारी न होना बताया जा रहा है, मतदान का वहिष्कार करने जा रहे लोगों का कहना है कि यह उनके विरोध व्यक्त करने का एक अहिंसक तरीका है, वह इस तरीके से अपनी इस सामूहिक समस्या को उच्चाधिकारियों तक पहुँचाना चाहते हैं, जानकारी के अनुसार ग्राम फतेहपुर में एक भी शौंचालय पूर्ण नहीं है, इसकी बजह यह कि किसी भी आबंटी को अभी तक दूसरी किश्त जारी नहीं हुयी है, गांव की महिलाएं व बच्चियां खेतों में शौंच करने को मजबूर हैं, गांव में तकरीबन सत्तर से अस्सी परिवार रहते हैं, जिनमें से कुछ को तो शौंचालय आवंटित हो चुके हैं और जिनकी आधी किश्त मिलना अभी  शेष है, वहीँ कई परिवार ऐसे हैं जिनके पास न तो शौंचालय है और न ही पात्रता सूची में उनका नाम है, दबी जुबान में ग्रामीणों का कहना है कि ग्राम प्रधान व ग्राम पंचायत अधिकारी यदा कदा सुबिधा शुल्क की बात कह जाते हैं, जिला प्रशासन को चाहिए कि वो ग्रामीणों की समस्या पर गौर कर उसका निराकरण सुझाएं

Comments

webmedia.page

साइकिल से ही यूरोप अफ्रीका व अरब देशों को पार कर सोरों जी पहुंचे रूसी यात्री मिखायू,

गंगा एक्सप्रेसवे बनने से कासगंज की तराई हो सकती है आर्थिक गलियारे के रूप में विकसित।

कासगंज: वेस्ट सेल्फी इन द वर्ल्ड - छोटे शहर से इंटरनेशनल स्टार्टअप।

सोरों जी के संदर्भ में उद्योगपति रामगोपाल दुबे ने की राष्ट्रपति से मुलाकात, अब अगली मुलाकात में भी सोरों जी के सर्वांगीण विकास को लेकर होनी है विस्तृत चर्चा।

हज़ारों चीखें न निकलें उससे पहले इसकी कराह सुन ली जाए तो बेहतर है,

कासगंज के आरके मिश्रा ने डिजाइन किया था तेजस का कॉकपिट- दशकों बाद अब वायुसेना में शामिल हुआ भारत का यह पहला लड़ाकू विमान,

कासगंज : ग्यारवीं के छात्रों द्वारा बनाई साइकिल दे रही है 50 का माइलेज।