स्वच्छ सर्वेक्षण 2019 की सूची में कासगंज को 317 वां स्थान, अभी भी बेहद गंदे शहरों की सूची में शुमार है कासगंज।




(अमित तिवारी): स्वच्छ सर्वेक्षण 2019 की सूची में कासगंज को पूरे भारत वर्ष में 317 वां स्थान मिला है,


स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 में यह रैंकिंग 348 के आसपास थी, हालांकि पिछले वर्ष के मुकाबले 31 अंक का सुधार हुआ है,  लेकिन अभी भी यह शहर बेहद गंदे शहरों की सूची में शुमार है,


बजबजाती नालियां, हफ्तों सड़ते बदबू छोड़ते कूड़े के ढेर, गंदी सड़कें, घर में शौंचालय होने के वावजूद खुले में शौंच, यही कुछ पहचान बन चुकी है इस कासगंज शहर की, 




Comments

webmedia.page

साइकिल से ही यूरोप अफ्रीका व अरब देशों को पार कर सोरों जी पहुंचे रूसी यात्री मिखायू,

गंगा एक्सप्रेसवे बनने से कासगंज की तराई हो सकती है आर्थिक गलियारे के रूप में विकसित।

कासगंज: वेस्ट सेल्फी इन द वर्ल्ड - छोटे शहर से इंटरनेशनल स्टार्टअप।

सोरों जी के संदर्भ में उद्योगपति रामगोपाल दुबे ने की राष्ट्रपति से मुलाकात, अब अगली मुलाकात में भी सोरों जी के सर्वांगीण विकास को लेकर होनी है विस्तृत चर्चा।

हज़ारों चीखें न निकलें उससे पहले इसकी कराह सुन ली जाए तो बेहतर है,

कासगंज के आरके मिश्रा ने डिजाइन किया था तेजस का कॉकपिट- दशकों बाद अब वायुसेना में शामिल हुआ भारत का यह पहला लड़ाकू विमान,

कासगंज : ग्यारवीं के छात्रों द्वारा बनाई साइकिल दे रही है 50 का माइलेज।