(अमित तिवारी) : वर्ष 1952 से 2019 तक - एटा जलेसर व कासगंज संसदीय सीट का इतिहास



(अमित तिवारी) : वर्ष 1952 से 2019 तक - एटा जलेसर व कासगंज संसदीय सीट का इतिहास 



पहली लोकसभा -17 अप्रेल 1952 से 04 अप्रेल 1957 तक :
-      
वर्ष 1952 में एटा सेंट्रल सीट पर रोहन लाल चतुर्वेदी ने 29585 मतों से राव कृष्णपाल सिंह को हराया, इस चुनाव में कांग्रेस के उम्मीदवार रोहनलाल चतुर्वेदी को 68367 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे राव कृष्णपाल सिंह बीजेएस उम्मीदवार को 38782 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे सिया राम आईएनडी उम्मीदवार को 28344 मत प्राप्त हुए,   

 
     
वर्ष 1952 में  कासगंज (एटा उत्तर) व बदायूं सीट पर रघुवीर सहाय ने 22378 मतों से हाकिम सिंह को हराया, इस चुनाव में रघुवीर सहाय स्वराज्य पार्टी के उम्मीदवार को 63147 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे हाकिम सिंह बीजेएस उम्मीदवार को 40769 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे निहाल उद्दिन एसपी उम्मीदवार को 26082 मत प्राप्त हुए,   

   
वर्ष  1952 में एटा पश्चिम व मैनपुरी पश्चिम एवं मथुरा पूर्व  सीट पर दिगंबर सिंह ने 62989 मतों से गंगा सिंह को हराया, इस चुनाव में दिगंबर सिंह कांग्रेस के उम्मीदवार को 104536 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार गंगा सिंह एसपी को 41547 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार बाबूराम यादव बीजेएस को 39641 मत प्राप्त हुए,  



-     
वर्ष 1952 में  जलेसर व मथुरा सीट पर कृष्ण चन्द्र ने 18261 मतों से महेंद्र प्रताप को हराया, इस चुनाव में कृष्ण चन्द्र कांग्रेस के उम्मीदवार को 71235 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार महेंद्र प्रताप आईएनडी को 52974 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार बोन महाराज आरआरपी को  21335 मत प्राप्त हुए,   





दूसरी लोकसभा – 05 अप्रेल 1957 से 31 मार्च 1962 तक :
-   
वर्ष 1957 में एटा सीट पर रोहन लाल चतुर्वेदी ने 34172 मतों से सूरज सिंह को हराया, इस चुनाव में रोहनलाल चतुर्वेदी कांग्रेस के उम्मीदवार को 78654 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार सूरज सिंह आईएनडी को 44482 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार लोकपाल सिंह बीजेएस को 35724 मत प्राप्त हुए,   

   

   
   
वर्ष 1957 में कासगंज (एटा उत्तर-पूर्व) व शाहजहांपुर पश्चिम सीट पर विशन चन्द्र सेठ ने 58524 मतों से नारायण दीन को हराया, इस चुनाव में विशन चन्द्र सेठ हिंदू महा सभा के उम्मीदवार को 168430 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार नारायण दीन कांग्रेस को 109906 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार दरबारी लाल को 104200 मत प्राप्त हुए,   






          
वर्ष 1957 में जलेसर सीट पर कृष्ण चन्द्र ने 10254 मतों से पार्थ सिंह यादव को हराया, इस चुनाव में के उम्मीदवार कृष्ण चन्द्र कांग्रेस को 72484 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार पार्थ सिंह यादव बीजेएस को 62230 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार लक्ष्मी नारायण आईएनडी को 45770 मत प्राप्त हुए,   







तीसरी लोकसभा – 02 अप्रेल 1962  से 03 मार्च 1967 तक :

-       
वर्ष 1962 में एटा सीट पर विशन चन्द्र सेठ ने 10614 मतों से रोहनलाल चर्तुर्वेदी को हराया, इस चुनाव में विशन चन्द्र सेठ हिंदू महासभा के उम्मीदवार को 56392 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार रोहन लाल चतुर्वेदी कांग्रेस को 45778 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार सादिक रवाज आरईपी को 35308 मत प्राप्त हुए,   

  



वर्ष 1962 में कासगंज (एटा उत्तर) व बदायूं सीट पर ओंकार सिंह ने 16785 मतों से मेरे सरवर अली को हराया, इस चुनाव में ओंकार सिंह जनसंघ के उम्मीदवार को 68363 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार मेरे सरवर अली एसडव्ल्यूए को 51778 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार रघुवीर सहाय आईएनसी को 46613 मत प्राप्त हुए,  
  
वर्ष 1962 में जलेसर सीट पर कृष्ण पाल सिंह राव ने 23348 मतों से रघुवीर सिंह  को हराया, इस चुनाव में कृष्ण पाल सिंह राव एसडव्ल्यूए के उम्मीदवार को 86318 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार रघुवीर सिंह आईएनसी को 62970 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार पार्थ सिंह जेएस को 26299 मत प्राप्त हुए,   





चौथी लोकसभा – 04 मार्च 1967 से 27 दिसम्बर 1970 तक :
-   
वर्ष 1967 में एटा और जलेसर सीट पर रोहनलाल चतुर्वेदी ने 15383 मतों से आर सिंह को हराया, इस चुनाव में रोहनलाल चतुर्वेदी कांग्रेस के उम्मीदवार को 102847 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार आर सिंह बीजेएस को 87464 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार आर स्वरुप आरपीआई को 50691 मत प्राप्त हुए,  







 वर्ष 1967 में कासगंज इंडिपेंडेंट (एटा उत्तर-पूर्व) सीट पर मलिक मोहम्मद मुशीर अहमद उर्फ़ मुशीर मियां ने 6099 मतों से एस चन्द्र को हराया, इस चुनाव में मलिक मोहम्मद मुशीर अहमद उर्फ़ मुशीर मियां  कांग्रेस के उम्मीदवार को 93928 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार एस चन्द्र बीजेएस को 87829 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार टी सिंह आरपीआई को 52103 मत प्राप्त हुए,    




पांचवीं लोकसभा – 15 मार्च 1971 से 18 जनवरी 1977 तक :


वर्ष 1971 में एटा और जलेसर सीट पर रोहनलाल चतुर्वेदी ने 16559 मतों से को हराया, इस चुनाव में रोहनलाल चतुर्वेदी कांग्रेस के उम्मीदवार को 97037 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार मुल्तान सिंह बीकेडी को 80478 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार गंगा प्रसाद एनसीओ को 78965 मत प्राप्त हुए,   





 वर्ष 1971 में कासगंज इंडिपेंडेंट (एटा उत्तर-पूर्व) सीट पर महादीपक सिंह शाक्य ने 15976 मतों से मलिक मोहम्मद मुशीर अहमद उर्फ़ मुशीर मियां को हराया, इस चुनाव में महादीपक सिंह शाक्य जनसंघ के उम्मीदवार को 128288 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार मलिक मोहम्मद मुशीर अहमद उर्फ़ मुशीर मियां कांग्रेस को 112312 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार हिम्मत सिंह बीकेडी को 27104 मत प्राप्त हुए,    




छठवीं लोकसभा – 23 मार्च 1977 से 22 अगस्त 1979 तक :


वर्ष 1977 में एटा सीट पर महादीपक सिंह शाक्य ने 181520  मतों से मुस्तफा राशिद शेरवानी को हराया, इस चुनाव में महादीपक सिंह शाक्य जनता पार्टी  के उम्मीदवार को 268136 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार मुस्तफा राशिद शेरवानी कांग्रेस को 86616 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार मुंशीलाल गोला को 6749 मत प्राप्त हुए,   

-    


वर्ष 1977 में कासगंज (एटा उत्तर) व बदायूं सीट पर ओंकार सिंह ने 142652 मतों से मलिक मोहम्मद मुशीर अहमद उर्फ़ मुशीर मियां को हराया, इस चुनाव में ओंकार सिंह जनता पार्टी के उम्मीदवार को 231556 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार मलिक मोहम्मद मुशीर अहमद उर्फ़ मुशीर मियां कांग्रेस को 88904 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार जयवीर सिंह आईएनडी को 19803 मत प्राप्त हुए,
   





वर्ष 1977 में जलेसर सीट पर मुल्तान सिंह ने 206546  मतों से रोहनलाल चतुर्वेदी को हराया, इस चुनाव में मुल्तान सिंह  बीएलडी के उम्मीदवार को 269054 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार रोहनलाल चतुर्वेदी कांग्रेस  को 62508  मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार राम प्रसाद आईएनडी को 12938 मत प्राप्त हुए,   





सातवीं लोकसभा – 18 जनवरी 1980 से 31 दिसम्बर 1984 तक :


वर्ष 1980 में एटा सीट पर मलिक मोहम्मद मुशीर अहमद उर्फ़ मुशीर मियां ने 8340 मतों से महादीपक सिंह शाक्य को हराया, इस चुनाव में मलिक मोहम्मद मुशीर अहमद उर्फ़ मुशीर मियां कांग्रेस के उम्मीदवार को 91340 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार महादीपक सिंह शाक्य जनता पार्टी को 83000 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार मोहम्मद आरिफ जीएनपी-एस को 57623 मत प्राप्त हुए,
  




वर्ष 1980 में कासगंज (एटा उत्तर) व बदायूं सीट पर मोहम्मद असरार ने 9934 मतों से ब्रिजपाल सिंह को हराया, इस चुनाव में मोहम्मद असरार कांग्रेस  के उम्मीदवार को 123603 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार ब्रिजपाल सिंह जीएनपी-एस को 113669 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार ओंकार सिंह जीएनपी को 76566 मत प्राप्त हुए,  
  








वर्ष 1980 में जलेसर सीट पर मुल्तान सिंह ने 58480 मतों से रामस्वरूप को हराया, इस चुनाव में मुल्तान सिंह जीएनपी-एस के उम्मीदवार को 157812 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार रामस्वरूप कांग्रेस –आई को 99392 मत एवं तीसरे स्थान पर रहीं उम्मीदवार सुशीला देवी जीएनपी को 78774 मत प्राप्त हुए,   






आठवीं लोकसभा – 31 दिसम्बर 1984  से 27 नबंवर 1989 तक :


वर्ष 1984 में एटा सीट पर मोहम्मद महफूज अली प्यारे मियां ने 3431 मतों से मलिक मोहम्मद मुशीर अहमद उर्फ़ मुशीर मियां को हराया, इस चुनाव में मोहम्मद महफूज अली प्यारे मियां लोकदल के उम्मीदवार को 110627 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार मलिक मोहम्मद मुशीर अहमद उर्फ़ मुशीर मियां कांग्रेस को 107196 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार नेतराम सिंह बीजेपी को 68256 मत प्राप्त हुए,   







 वर्ष 1984 में कासगंज (एटा उत्तर) व बदायूं सीट पर सलीम इकबाल शेरवानी ने 49742 मतों से शरद यादव को हराया, इस चुनाव में सलीम इकबाल शेरवानी कांग्रेस के उम्मीदवार को 183524 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार शरद यादव एलकेडी को 133782 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार भगवान सिंह शाक्य बीजेपी को  71719 मत प्राप्त हुए,    







    
वर्ष 1984 में जलेसर सीट पर कैलाश चन्द्र यादव ने 9738 मतों से सुशीला देवी को हराया, इस चुनाव में कैलाश चन्द्र यादव कांग्रेस के उम्मीदवार को 149004 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहीं उम्मीदवार सुशीला देवी एलकेडी को 139266 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार भरत सिंह बघेल आईएनडी को 41944 मत प्राप्त हुए,   
  


नौवीं लोकसभा – 2 दिसम्बर 1989 से 13 मार्च 1991 तक :
-   
वर्ष 1989 में एटा सीट पर महादीपक सिंह शाक्य ने 7477 मतों से सलीम इकबाल शेरवानी को हराया, इस चुनाव में महादीपक सिंह शाक्य बीजेपी के उम्मीदवार को 143442 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार सलीम इकबाल शेरवानी कांग्रेस को 135965 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार मोहम्मद महफूज अली प्यारे मियां जेडी को 98824 मत प्राप्त हुए,   

-   


वर्ष 1989 में कासगंज (एटा उत्तर) व बदायूं सीट पर राष्ट्रीय नेता शरद यादव ने 92086 मतों से रामनरेश यादव को हराया, इस चुनाव में शरद यादव जेडी के उम्मीदवार को 225712 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार राम नरेश यादव कांग्रेस को 133626 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार मोहम्मद शाहिद वल्लाह खान आईएनडी को 78108 मत प्राप्त हुए,   

-   
वर्ष 1989 में जलेसर सीट पर मुल्तान सिंह ने 97896 मतों से कैलाश यादव को हराया, इस चुनाव में उम्मीदवार मुल्तान सिंह को 221590 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार कैलाश चन्द्र यादव को 123694 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार भारत सिंह बघेल आईएनडी को 37235 मत प्राप्त हुए,    





दसवीं लोकसभा – 20 जून 1991 से 10 मई 1996 तक :
-   
वर्ष 1991 में एटा सीट पर महादीपक सिंह शाक्य ने 24232 मतों से लटूरी सिंह को हराया, इस चुनाव में महादीपक सिंह शाक्य बीजेपी के उम्मीदवार को 148169 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार लटूरी सिंह जेपी को 123937 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार मलिक मोहम्मद मुशीर अहमद उर्फ़ मुशीर मियां जेडी को 68078 मत प्राप्त हुए,  






   
वर्ष 1991 में कासगंज (एटा उत्तर) व बदायूं सीट पर स्वामी चिन्मियानंद ने 15579 मतों से शरद यादव को हराया, इस चुनाव में स्वामी चिन्मियानंद बीजेपी के उम्मीदवार को 161957 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार शरद यादव जेडी को 146378 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार सलीम इकबाल शेरवानी कांग्रेस को 76680 मत प्राप्त हुए,
   







 वर्ष 1991 में जलेसर सीट पर स्वामी सुरेशानंद ने 24292 मतों से सुशीला ब्रिजराज सिंह को हराया, इस चुनाव में स्वामी सुरेशानंद बीजेपी के उम्मीदवार को 115113 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहीं उम्मीदवार सुशीला ब्रिजराज सिंह जेडी को 90821 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार रमेश यादव को 69370 मत प्राप्त हुए,   





ग्यारवीं लोकसभा – 15 मई 1996 से 04 दिसम्बर 1997 तक :
-   
वर्ष 1996 में एटा सीट पर महादीपक सिंह शाक्य ने 45703 मतों से रमेश यादव को हराया, इस चुनाव में महादीपक सिंह शाक्य बीजेपी के उम्मीदवार को 190855 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार रमेश यादव एसपी को 145152 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार कैलाश यादव बीएसपी को 91925 मत प्राप्त हुए,
  




वर्ष 1996 में कासगंज (एटा उत्तर) व बदायूं सीट पर सलीम इकबाल शेरवानी ने 45187 मतों से ब्रिजपाल सिंह को हराया, इस चुनाव में सलीम इकबाल शेरवानी एसपी के उम्मीदवार को 198065 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार ब्रिजपाल सिंह बीएसपी को 152878 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार प्रेमपाल सिंह बीजेपी को  125942 मत प्राप्त हुए,    








वर्ष 1996 में जलेसर सीट पर ओमपाल सिंह निडर ने 39375 मतों से सत्यपाल सिंह बघेल को हराया, इस चुनाव में ओमपाल सिंह निडर बीजेपी के उम्मीदवार को 194422 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार सत्यपाल सिंह बघेल बीएसपी को 155047 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार हरवीर सिंह बघेल एसपी को 81005 मत प्राप्त हुए,   


  


वारहवीं लोकसभा – 10 मार्च 1998 से 26 अप्रेल 1999 तक :
-   
वर्ष 1998 में एटा सीट पर महादीपक सिंह शाक्य ने 12140 मतों से देवेन्द्र सिंह को हराया, इस चुनाव में महादीपक सिंह शाक्य बीजेपी के उम्मीदवार को 286982 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार देवेन्द्र सिंह यादव एसपी को 274842 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार रघुनाथ सिंह लोधी बीएसपी को 59807 मत प्राप्त हुए,   







 वर्ष 1998 में कासगंज (एटा उत्तर) व बदायूं सीट पर सलीम इकबाल शेरवानी ने 39658 मतों से शांति देवी शाक्य को हराया, इस चुनाव में सलीम इकबाल शेरवानी एसपी के उम्मीदवार को 264583 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहीं उम्मीदवार शांति देवी शाक्य बीजेपी को 224925 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार ब्रिजपाल सिंह बीएसपी को 104718 मत प्राप्त हुए,   








    
वर्ष 1998 में जलेसर सीट पर प्रोफ़ेसर एसपी सिंह बघेल ने 2734 मतों से ओमपाल सिंह निडर को हराया, इस चुनाव में प्रोफ़ेसर एसपी सिंह बघेल एसपी के उम्मीदवार को 265505 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार ओमपाल सिंह निडर बीजेपी  को 262771 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार भूप सिंह बघेल बीएसपी को 108878 मत प्राप्त हुए,    




तेरहवीं लोकसभा – 10 अक्टूबर 1999 से 06 फरबरी 2004 तक :
-   
वर्ष 1999 में एटा सीट पर देवेन्द्र सिंह यादव ने 52524 मतों से महादीपक सिंह शाक्य को हराया, इस चुनाव में देवेन्द्र सिंह यादव सपा के उम्मीदवार को 226999 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार महादीपक सिंह शाक्य बीजेपी को 174475 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार सेठ सुल्तान आलम बीएसपी को 102048 मत प्राप्त हुए, 









वर्ष 1999 में कासगंज (एटा उत्तर) व बदायूं सीट पर सलीम इकबाल शेरवानी ने 41314 मतों से शांतिदेवी शाक्य को हराया, इस चुनाव में सलीम इकबाल शेरवानी एसपी के उम्मीदवार को 236496 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहीं उम्मीदवार शांति देवी शाक्य बीजेपी को 195182 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार ब्रिजपाल सिंह बीएसपी को 137909 मत प्राप्त हुए,   






वर्ष 1999 में जलेसर सीट पर प्रोफ़ेसर एसपी सिंह बघेल ने 8062 मतों से ओमपाल सिंह निडर को हराया, इस चुनाव में प्रोफ़ेसर एसपी सिंह बघेल एसपी के उम्मीदवार को 217336 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार ओमपाल सिंह निडर बीजेपी को 209274 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार रामवीर उपाध्याय बीएसपी को 149628 मत प्राप्त हुए,   




चौदहवीं लोकसभा – 17 मई 2004 से 18 मई 2009 तक :
-   
वर्ष 2004 में एटा सीट पर देवेन्द्र सिंह यादव ने 51343 मतों से अशोक रतन शाक्य को हराया, इस चुनाव में देवेन्द्र सिंह यादव एसपी के उम्मीदवार को 276140 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार अशोक रतन शाक्य बीजेपी को 224797 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार रामगोपाल शाक्य बीएसपी को 56872 मत प्राप्त हुए,   






वर्ष 2004 में कासगंज (एटा उत्तर) व बदायूं सीट पर सलीम इकबाल शेरवानी ने 51323 मतों से ब्रिजपाल सिंह शाक्य को हराया, इस चुनाव में सलीम इकबाल शेरवानी एसपी के उम्मीदवार को 265712 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार ब्रिजपाल सिंह शाक्य बीजेपी को 214389 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार प्रेमपाल सिंह यादव बीएसपी  को 75886 मत प्राप्त हुए,    










वर्ष 2004 में जलेसर सीट पर प्रोफ़ेसर एसपी सिंह बघेल ने 106075 मतों से प्रतेंद्र पाल सिंह को हराया, इस चुनाव में प्रोफ़ेसर एसपी सिंह बघेल एसपी के उम्मीदवार को 287076 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार प्रतेंद्र पाल सिंह को 181001 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार उपदेश सिंह चौहान बीएसपी को 149652 मत प्राप्त हुए,   
  


पंद्रहवीं लोकसभा – 18 मई 2009 से 18 मई 2014 तक :
-   
वर्ष 2009 में एटा व कासगंज सीट पर पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह ने 128268 मतों देवेन्द्र सिंह यादव से को हराया, इस चुनाव में कल्याण सिंह निर्दलीय व सपा समर्थित उम्मीदवार को 275712 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार देवेन्द्र सिंह यादव एसपी को 147449 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार डॉ श्याम सिंह शाक्य बीजेपी को 88562 मत प्राप्त हुए,   





वर्ष 2009 में जलेसर व आगरा सीट पर राम शंकर कठेरिया ने 9715 मतों से कुंवर चन्द्र को हराया, इस चुनाव में राम शंकर कठेरिया बीजेपी के उम्मीदवार को 203697 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार कुंवर चन्द्र बीएसपी को 193982 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार राम जी लाल सुमन एसपी को 141367 मत प्राप्त हुए,   





सोलहवीं लोकसभा – 19 मई 2014 से 2019 अब तक :

-   
वर्ष 2014 में एटा व कासगंज सीट पर राजवीर सिंह उर्फ़ राजू भैया ने 201001 मतों से देवेन्द्र सिंह यादव को हराया, इस चुनाव में राजवीर सिंह उर्फ़ राजू भैया बीजेपी के उम्मीदवार को 474978 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार देवेन्द्र सिंह यादव एसपी को 273977 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार नूर मुहम्मद खान बीएसपी को 137127 मत प्राप्त हुए,   




वर्ष 2014 में जलेसर व आगरा सीट पर राम शंकर कठेरिया ने 300263 मतों से नारायण सिंह सुमन को हराया, इस चुनाव में राम शंकर कठेरिया बीजेपी के उम्मीदवार को 583716 मत प्राप्त हुए, वहीं दूसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार नारायण सिंह सुमन  बीएसपी को 283453 मत एवं तीसरे स्थान पर रहे उम्मीदवार महाराज सिंह धनगर को 134708 मत प्राप्त हुए,   





Comments

webmedia.page

साइकिल से ही यूरोप अफ्रीका व अरब देशों को पार कर सोरों जी पहुंचे रूसी यात्री मिखायू,

गंगा एक्सप्रेसवे बनने से कासगंज की तराई हो सकती है आर्थिक गलियारे के रूप में विकसित।

कासगंज: वेस्ट सेल्फी इन द वर्ल्ड - छोटे शहर से इंटरनेशनल स्टार्टअप।

सोरों जी के संदर्भ में उद्योगपति रामगोपाल दुबे ने की राष्ट्रपति से मुलाकात, अब अगली मुलाकात में भी सोरों जी के सर्वांगीण विकास को लेकर होनी है विस्तृत चर्चा।

हज़ारों चीखें न निकलें उससे पहले इसकी कराह सुन ली जाए तो बेहतर है,

कासगंज के आरके मिश्रा ने डिजाइन किया था तेजस का कॉकपिट- दशकों बाद अब वायुसेना में शामिल हुआ भारत का यह पहला लड़ाकू विमान,

कासगंज : ग्यारवीं के छात्रों द्वारा बनाई साइकिल दे रही है 50 का माइलेज।