तुलसीदास जन्मभूमि विवाद- सोशल मीडिया में उबाल।




तुलसीदास जन्मभूमि विवाद- सोशल मीडिया में उबाल।

(अमित तिवारी) कासगंज/सोरों। तुलसीदास सोरों में जन्मे या राजापुर में, तुलसीदास का यह जन्मभूमि विवाद 16 वीं शताब्दी से आज भी जारी है, पर इस विवाद में यूपी सरकार के बजट ने आग में घी डालने का काम किया है, सरकार ने पश्चिमांचल में स्थित सोरों के बजाय पूर्वांचल में स्थित राजापुर को तुलसीदास पीठ विकास पैकेज देने की घोषणा की है। सरकार के इस फैसले से सोरों के बाशिंदों में खासी नाराज़गी है।
शुक्रवार को सोरों के गुस्साए युवाओं ने यूपी सीएम का पुतला भी फूंक दिया। इस वक्त सोरों का  माहौल बेहद गरम है, सोशल मीडिया पर क्रिया प्रतिक्रियाओं का दौर चल रहा है, कोई सधे शब्दों में तो कोई आपत्तिजनक शब्दावली में अपनी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहा है, सोशल मीडिया पर हो रही डिजिटल वार्ता को देखकर ऐसा लग रहा है कि सोरों के युवा किसी बड़े आंदोलन की रणनीति पर काम कर रहे हैं।
माहौल के मिजाज को भांपते हुए कासगंज का पुलिस प्रशासन भी बेहद चौकन्ना बना हुआ है,

Comments

webmedia.page

साइकिल से ही यूरोप अफ्रीका व अरब देशों को पार कर सोरों जी पहुंचे रूसी यात्री मिखायू,

गंगा एक्सप्रेसवे बनने से कासगंज की तराई हो सकती है आर्थिक गलियारे के रूप में विकसित।

कासगंज: वेस्ट सेल्फी इन द वर्ल्ड - छोटे शहर से इंटरनेशनल स्टार्टअप।

सोरों जी के संदर्भ में उद्योगपति रामगोपाल दुबे ने की राष्ट्रपति से मुलाकात, अब अगली मुलाकात में भी सोरों जी के सर्वांगीण विकास को लेकर होनी है विस्तृत चर्चा।

हज़ारों चीखें न निकलें उससे पहले इसकी कराह सुन ली जाए तो बेहतर है,

कासगंज के आरके मिश्रा ने डिजाइन किया था तेजस का कॉकपिट- दशकों बाद अब वायुसेना में शामिल हुआ भारत का यह पहला लड़ाकू विमान,

कासगंज : ग्यारवीं के छात्रों द्वारा बनाई साइकिल दे रही है 50 का माइलेज।