बांदा के ही गजेटियर में लिखा है कि सोरों निवासी थे तुलसी।



बांदा के ही गजेटियर में लिखा है कि सोरों निवासी थे तुलसी।

(अमित तिवारी) कासगंज/सोरों। तुलसीदास सोरों के ही निवासी थे, इस बात का सबसे पुख्ता प्रमाण बांदा/राजापुर के ही गजेटियर मिलता है, वर्ष 1929 ब्रिटिश शासन में बांदा जिले एवं राजापुर  का गजेटियर लिखा गया, 


इस गजेटियर के पृष्ठ संख्या 289 पर साफ साफ लिखा कि तुलसीदास सोरों के निवासी थे, जो सोरों से राजापुर को आये।

Comments

webmedia.page

साइकिल से ही यूरोप अफ्रीका व अरब देशों को पार कर सोरों जी पहुंचे रूसी यात्री मिखायू,

गंगा एक्सप्रेसवे बनने से कासगंज की तराई हो सकती है आर्थिक गलियारे के रूप में विकसित।

कासगंज: वेस्ट सेल्फी इन द वर्ल्ड - छोटे शहर से इंटरनेशनल स्टार्टअप।

सोरों जी के संदर्भ में उद्योगपति रामगोपाल दुबे ने की राष्ट्रपति से मुलाकात, अब अगली मुलाकात में भी सोरों जी के सर्वांगीण विकास को लेकर होनी है विस्तृत चर्चा।

हज़ारों चीखें न निकलें उससे पहले इसकी कराह सुन ली जाए तो बेहतर है,

कासगंज के आरके मिश्रा ने डिजाइन किया था तेजस का कॉकपिट- दशकों बाद अब वायुसेना में शामिल हुआ भारत का यह पहला लड़ाकू विमान,

कासगंज : ग्यारवीं के छात्रों द्वारा बनाई साइकिल दे रही है 50 का माइलेज।