दरियावगंज झील पर मनाया गया विश्व आद्रभूमि दिवस।

दरियावगंज झील पर मनाया गया विश्व आद्रभूमि दिवस।



(अमित तिवारी) कासगंज। जनपद मुख्यालय से 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित प्रकृति का वरदान कही जाने वाली दरियावगंज लेख के किनारे 2 फरबरी दिन शनिवार को विश्व आद्रभूमि दिवस अर्थात वर्ल्ड वेटलैंड डे के अवसर पर एक सम्मेलन हुआ, 
इस सम्मेलन में विधायक, सीडीओ, जिला कृषि अधिकारी, जिला वन अधिकारी के साथ साथ ग्राम प्रधान, प्रोफेसर, अध्यापक, व एनसीसी कैडेट्स एवं स्कूली छात्र छात्राओं ने किया प्रतिभाग,
जनपद कासगंज के एनआर पब्लिक स्कूल, सेंट जोसेफ स्कूल व साईं पब्लिक स्कूल के छात्र छात्राओं द्वारा आर्ट क्राफ्टिंग की प्रदर्शनी लगाई गई, 
वहीं गंजडुंडवारा पीजी कॉलेज के वनस्पति विज्ञान से अध्यनरत छात्र छात्राओं ने झील से वनस्पति व जलीय जीवों के सेंपल एकत्रित कर हरबेरियम व स्पेसिमैन फाइल नोट्स तैयार किये, कार्यक्रम में प्रतिभागी छात्र छात्राओं को पुरस्कृत भी किया गया, कार्यक्रम के दौरान स्थानीय विधायक ममतेश शाक्य ने कहा कि दरियावगंज झील को पक्षी विहार व पर्यटन के रूप में विकसित करने के लिए व सरकार से बात करेंगे, वहीं सीडीओ श्रीनिवासन मिश्र ने कहा कि ब्रह्मांड के पंचतत्व में से जल संरक्षण का महत्व हमें शीघ्र समझने की आवश्यकता है व प्रत्येक बच्चा पौधरोपण अवश्य करे, झील पर हुए सम्मेलन में प्रतिभाग करने गए सभी अधिकारियों, जनप्रतिनिधियों, वनस्पतिकवेत्ताओं, प्रोफेसर, अध्यापक व छात्र छात्राओं ने एक नेचर वाक कर झील वनस्पति पशु पक्षी व जलीय जीवों को करीब से देखा,

जिला वन अधिकारी दिवाकर वशिष्ठ जी के नेतृत्व में इस पूरे कार्यक्रम व सम्मेलन को संम्पन्न कराया गया,

Comments

webmedia.page

साइकिल से ही यूरोप अफ्रीका व अरब देशों को पार कर सोरों जी पहुंचे रूसी यात्री मिखायू,

गंगा एक्सप्रेसवे बनने से कासगंज की तराई हो सकती है आर्थिक गलियारे के रूप में विकसित।

कासगंज: वेस्ट सेल्फी इन द वर्ल्ड - छोटे शहर से इंटरनेशनल स्टार्टअप।

सोरों जी के संदर्भ में उद्योगपति रामगोपाल दुबे ने की राष्ट्रपति से मुलाकात, अब अगली मुलाकात में भी सोरों जी के सर्वांगीण विकास को लेकर होनी है विस्तृत चर्चा।

हज़ारों चीखें न निकलें उससे पहले इसकी कराह सुन ली जाए तो बेहतर है,

कासगंज के आरके मिश्रा ने डिजाइन किया था तेजस का कॉकपिट- दशकों बाद अब वायुसेना में शामिल हुआ भारत का यह पहला लड़ाकू विमान,

कासगंज : ग्यारवीं के छात्रों द्वारा बनाई साइकिल दे रही है 50 का माइलेज।