जनपद कासगंज के विभिन्न घाटों पर 4 लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने किया गंगा स्नान।



जनपद कासगंज के विभिन्न घाटों पर 4 लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने किया गंगा स्नान।

तकरीबन 50 हज़ार विभिन्न वाहनों द्वारा 1 लाख स्नानार्थी मैजिक व ऑटो से, 90 हज़ार स्नानार्थी निजी कार से, 80 हज़ार स्नानार्थी ट्रेक्टर ट्राली से, 60 हज़ार स्नानार्थी दुपहिया वाहनों से पहुंचे गंगा स्नान करने।

मौनी अमावस्या स्नान से 15 हज़ार लोगों को मिला 1 दिन का रोजगार व 2 करोड़ रुपये अतिरिक्त का बिका डीजल पेट्रोल।

(अमित तिवारी) कासगंज। 4 फरबरी सोमवार को सोमवती और मौनी अमावस्या एक साथ होने से जनपद कासगंज के विभिन्न गंगा घाटों पर लाखों की संख्या में श्रद्धालु गंगा घाटों पर स्नान के लिए जुटे। घने कोहरे और इस कड़ाके की ठंड होने के वावजूद भी जनपद के कछला गंगा घाट, लहरा गंगा घाट, शाहवजपुर गंगा घाट, कादरगंज गंगा घाट, नरदौली गंगा घाट, के साथ ही सोरों स्थित हरि की पौड़ी पर भी सुबह से ही श्रद्धालुओं के स्नान का सिलसिला शुरु हो गया।

जनपद के विभिन्न गंगा घाटों पर तकरीबन 50 हज़ार विभिन्न वाहनों द्वारा तकरीबन 1 लाख स्नानार्थी मैजिक व ऑटो से, 90 हज़ार स्नानार्थी निजी कार से, 80 हज़ार स्नानार्थी ट्रेक्टर ट्राली से, 60 हज़ार स्नानार्थी दुपहिया वाहनों से गंगा स्नान करने पहुंचे।

मौनी अमावस्या के दिन गंगा स्नान से 15 हज़ार लोगों को 1 दिन का रोजगार मिला एवं उक्त गंगा घाटों को पहुंचे वाहनों ने देशभर की तमाम फ्यूल स्टेशन से आम दिनों के मुकाबले 2 करोड़ रुपये अतिरिक्त का डीजल पेट्रोल खरीदा।

स्नान आदि से निवृत्त होकर श्रद्धालुओं ने गंगा घाट किनारे स्थित मंदिरों में पूजा अर्चना की और दान कर पुण्य कमाया। श्रद्धालुओं के गंगा स्नान का सिलसिला दोपहर बाद तक जारी रहा। जनपद की सड़कों पर बढ़े यातायात दबाव से दिनभर यातायात जाम लगा रहा। जाम से निजात पाने को जनपदभर में पुलिस ने रूट डायवर्ट कर वाहन गुजारे।

माघ मास की अमावस्या को मौनी अमावस्या के रूप में मनाया जाता है। यह अमावस्या सोमवार को होने की वजह से इस पर्व का महत्व बढ़ गया। सोमवती और मौनी अमावस्या एक साथ होने की वजह से श्रद्धालु काफी संख्या में गंगा घाटों पर स्नान को जुटे। रविवार की देर शाम से ही गंगा घाटों पर श्रद्धालु एकत्रित होने लगे। मध्य प्रदेश, राजस्थान, गुजरात, दिल्ली के साथ ही अन्य बाहरी राज्यों के श्रद्धालु भी रात से लेकर सुबह तक गंगा घाटों पर जुट गए। सोमवार सुबह ब्रह्ममुहूर्त से ही गंगा घाटों पर हर हर गंगे के उद्द्घोष सुनाई देने लगे। निकटवर्ती क्षेत्रों के श्रद्धालु भी सुबह के समय गंगा स्नान को पहुंचे और स्नान कर पुण्य कमाया। मौनी और सोमवती अमावस्या का पर्व एक साथ होने की वजह से गंगा तटों पर हवन यज्ञ एवं अन्य धार्मिक अनुष्ठान भी आयोजित हुए। श्रद्धालुओं ने दान आदि कर पुण्य कमाया और अपने अपने गंतव्य के लिए रवाना होने लगे। 

Comments

webmedia.page

साइकिल से ही यूरोप अफ्रीका व अरब देशों को पार कर सोरों जी पहुंचे रूसी यात्री मिखायू,

गंगा एक्सप्रेसवे बनने से कासगंज की तराई हो सकती है आर्थिक गलियारे के रूप में विकसित।

कासगंज: वेस्ट सेल्फी इन द वर्ल्ड - छोटे शहर से इंटरनेशनल स्टार्टअप।

सोरों जी के संदर्भ में उद्योगपति रामगोपाल दुबे ने की राष्ट्रपति से मुलाकात, अब अगली मुलाकात में भी सोरों जी के सर्वांगीण विकास को लेकर होनी है विस्तृत चर्चा।

हज़ारों चीखें न निकलें उससे पहले इसकी कराह सुन ली जाए तो बेहतर है,

कासगंज के आरके मिश्रा ने डिजाइन किया था तेजस का कॉकपिट- दशकों बाद अब वायुसेना में शामिल हुआ भारत का यह पहला लड़ाकू विमान,

कासगंज : ग्यारवीं के छात्रों द्वारा बनाई साइकिल दे रही है 50 का माइलेज।