विशिष्ट अवशोषण दर 1.6w/kg. से अधिक होने पर बदल दें अपना मोबाइल





विशिष्ट अवशोषण दर 1.6w/kg. से अधिक होने पर बदल दें अपना मोबाइल
-अन्यथा जानलेवा हो सकते हैं परिणाम।

(अमित तिवारी) कासगंज। आपके मोबाइल फोन से जो विकिरण यानी रेडिएशन निकलता है उसे स्‍पेसिफिक एब्‍जॉर्पशन रेट एसएआर अर्थात विशिष्ट अवशोषण दर इकाई में मापा जाता है। अगर आपके मोबाइल फ़ोन का स्‍पेसिफिक एब्‍जॉर्पशन रेट तय मानकों से अधिक है तो आपको अपना मोबाइल फोन तत्काल बदल लेना चाहिए।
जर्मनी के फेडरल ऑफिस ऑफ रेडिएशन प्रोटेक्‍शन द्वारा जारी रिपोर्ट ने पूरी दुनिया में तहलका मचा रखा है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन की स्‍मार्टफोन कंपनियां शाओमी और वनप्‍लस के स्‍मार्टफोन सबसे ज्‍यादा रेडिएशन फैलाते हैं, वहीं दक्षिण कोरिया की कंपनी सैमसंग के स्‍मार्टफोन से सबसे कम रेडिएशन निकलता है, रिपोर्ट के आंकड़ों के आधार पर स्‍टेटिस्‍टा ने सबसे ज्‍यादा और सबसे कम रेडिएशन वाले फोन की एक लिस्‍ट तैयार की है, इस लिस्‍ट के हिसाब से शाओमी का मी ए1 और वनप्‍लस का 5टी से तय मानक से ज्‍यादा रेडिएशन निकाल रहे हैं।  
भारत में एसएआर की सीमा 1.60 वाट प्रति किलोग्राम तय की गई है,  जबकि मी ए1 का एसएआर 1.75 वाट प्रति किलोग्राम और वनप्‍लस 5टी का 1.68 वाट प्रति किलोग्राम है। 



मैंने अपने सेमसंग मोबाइल फ़ोन का एसएआर चेक किया जो 0.9036w/kg  रिकॉर्ड हुआ, आप भी अपने मोबाइल फ़ोन का एसएआर चेक करें, अगर आपके मोबाइल विशिष्ट अवशोषण दर अर्थात एसएआर 1.6w/kg. से अधिक हो तो आप अपना मोबाइल तत्काल बदल दें, अन्यथा मानसिक बीमारियों के अलावा गले में व् ब्रेन ट्यूमर एवं कैंसर जैसे जानलेवा बीमारियां के पैदा होने का खतरा भी बढ़ सकता है,
आपके मोबाइल फोन से कितना रेडिएशन निकलता है यह जांचने के लिए यूजर्स को अपने स्‍मार्टफोन से *#07# (स्‍टार, हैज, जीरो, सात, हैज) डायल करिए। यह कोड डायल करते ही रेडिएशन से जुड़ी सारी जानकारी आपके फोन की स्‍क्रीन पर नजर आएगी।

Comments

webmedia.page

साइकिल से ही यूरोप अफ्रीका व अरब देशों को पार कर सोरों जी पहुंचे रूसी यात्री मिखायू,

गंगा एक्सप्रेसवे बनने से कासगंज की तराई हो सकती है आर्थिक गलियारे के रूप में विकसित।

कासगंज: वेस्ट सेल्फी इन द वर्ल्ड - छोटे शहर से इंटरनेशनल स्टार्टअप।

सोरों जी के संदर्भ में उद्योगपति रामगोपाल दुबे ने की राष्ट्रपति से मुलाकात, अब अगली मुलाकात में भी सोरों जी के सर्वांगीण विकास को लेकर होनी है विस्तृत चर्चा।

हज़ारों चीखें न निकलें उससे पहले इसकी कराह सुन ली जाए तो बेहतर है,

कासगंज के आरके मिश्रा ने डिजाइन किया था तेजस का कॉकपिट- दशकों बाद अब वायुसेना में शामिल हुआ भारत का यह पहला लड़ाकू विमान,

कासगंज : ग्यारवीं के छात्रों द्वारा बनाई साइकिल दे रही है 50 का माइलेज।