Posts

webmedia.page

कासगंज: हज़ारों किसानों के करोङों लेकर निवेश कंपनी अता पता लापता।

Image
कासगंज: हज़ारों किसानों के करोङों लेकर निवेश कंपनी अता पता लापता।

(अमित तिवारी) : घोटालों की अगली श्रृंखला में कासगंज जनपद के साथ एक नया घोटाला और जुड़ गया, जिसमें एक फ़र्ज़ी निवेश कंपनी का एक ग्रुप जोकि कासगंज जनपद के ही हज़ारों किसानों के करोङों रुपयों को लेकर उड़ गया है।



पीड़ित किसान निवेशकों का कहना कि वर्ष 2011 से 2016 तक एक ही मालिकाना ग्रुप की भिन्न भिन्न निवेश कंपनियों ने जनपद कासगंज से हज़ारों किसानों के तकरीबन 3 से 4 करोड़ रुपयों का कलेक्शन किया और तत्पश्चात फरार हो गई, वहीं कुछ निवेशकों का कहना है कि कंपनी द्वारा निवेश में गड़बड़ी की शिकायतें मिलने पर SEBI (Securities and Exchange Board of India) ने कंपनी के दफ्तरों पर ताला लगा दिया और उसके मालिकों को हिरासत में लेकर कानूनी कार्यवाही की।



पिछले 3 वर्षों से किसान निवेशक अपनी जमा पूंजी को पाने के लिए कासगंज से लेकर दिल्ली के जंतर मंतर तक हो आये पर उनकी धन वापसी की कोई गारंटी न मिल सकी।



इस वित्तीय घोटाले की रकम से कंपनी द्वारा कासगंज के सोरों लहरा रोड पर बड़ी संख्या में जमीन खरीद भी बताई जा रही है।




निवेशक किसान हरदेव धनीराम महिपाल संजय पा…

पूरन चला गया पर दर्द और गम का अथाह समंदर छोड़ गया...

Image
पूरन चला गया पर दर्द और गम का अथाह समंदर छोड़ गया...
(अमित तिवारी) कासगंज : क़स्बा बिलराम के रहने वाले धनहीन भूमिहीन अन्नहीन गृहविहीन कर्ज तले दबे एक सख्स पूरन ने 30 अगस्त की शाम फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली, अब सवाल है कि पूरन की मौत के बाद उसके रोते बिलखते पत्नी और तीन मासूम बच्चों का क्या होगा, जब पूरन था तब थोड़ी बहुत मजदूरी कर अपने बच्चों के लिए दो वक्त की रोटी का इंतजाम बमुश्किल कर पाता था, अब वो इस दुनिया में नहीं हैं, 



उसने अपने पत्नी बच्चों को भूंख से तड़फता देख फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है, मैं और मेरे साथी बरिष्ठ पत्रकार नरेन्द्र पालीवाल सोमवार 9 सितम्बर को मृतक पूरन के घर बिलराम पहुंचे,पूरन के पत्नी बच्चे भाई बहन रिश्तेदार सभी का रो-रोकर बुरा हाल था, पूरन तो चला गया पर दर्द और गम का अथाह समंदर छोड़ गया, जो भी पूरन के परिवार से मिला है... वह इस दर्द और स्थिति को महसूस कर सकता है कि आज उसका परिवार किस मोड़ पर खड़ा है.. किस हालत में है,



मृतक पूरन के परिवार में उसकी पत्नी- सुनीता 40 वर्ष, पुत्री- रेखा 20 वर्ष, पुत्री – गुड़िया 12 वर्ष, पुत्री- हेमलता 6 वर्ष व सबसे छोटा पुत्र- छत्रपाल जिस…

राज्यपाल ने किया गंगा वन क्षेत्र का उद्द्घाटन- पद्मश्री वृक्षमाता थिमक्का व राष्ट्रपति के योगदान का भी किया जिक्र,

Image
राज्यपाल ने किया गंगा वन क्षेत्र का उद्द्घाटन-  पद्मश्री वृक्षमाता थिमक्का व राष्ट्रपति के योगदान का भी किया जिक्र,
(अमित तिवारी) कासगंज : उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा प्रदेशभर में चलाये जा रहे वृक्षारोपण महाकुम्भ कार्यक्रम के इस शुभ अवसर पर जनपद कासगंज के गंगा तटवर्ती ग्राम चंदनपुर घटियारी में शुक्रवार प्रातः 10 वजकर 30 मिनट पर महामहिम राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने यहां पधारकर.... 62 हेक्टेयर भूमि पर रोपित किये गए 1 लाख से अधिक पौधों के गंगा वन क्षेत्र का उद्घाटन किया, 


गंगा वन के इस उपवन की पंचवटी एवं नक्षत्र वाटिका में 51 प्रजाति के 1 लाख से अधिक फलदार.. शोभाकर व औषधीय वृक्षों को रोपित किया गया,



इस शुभ अवसर पर महामहिम राज्यपाल के साथ नमामि गंगे के महानिदेशक राजीव रंजन मिश्रा भी उपस्थित रहे,





साथ ही स्थानीय सांसद राजवीर सिंह, प्रभारी मंत्री सुरेश पासी व राज्यमंत्री संदीप सिंह सहित स्थानीय विधायक देवेन्द्र राजपूत, देवेन्द्र प्रताप, ममतेश शाक्य के साथ साथ भाजपा जिलाध्यक्ष एवं अधिकतर कार्यकर्ता उपस्थित रहे,

वहीँ प्रशासन की ओर से कासगंज जिलाधिकारी चन्द्र प्रकाश सिंह, डीएफओ दिवाकर वशिष्ठ सहि…

साइकिल से ही यूरोप अफ्रीका व अरब देशों को पार कर सोरों जी पहुंचे रूसी यात्री मिखायू,

Image
साइकिल से ही यूरोप अफ्रीका व अरब देशों को पार कर सोरों जी पहुंचे रूसी यात्री मिखायू,
(अमित तिवारी) सोरों जी : साइकिल से ही चार महादीपों के दर्जनों देशों को पार कर रूस के एक मनोवैज्ञानिक मिखायू जो कि शुक्रवार दोपहर भारत की तीर्थ नगरी सोरों जी पहुंचे, यहां कुछ समय बिताकर वह बरेली पीलीभीत होकर नेपाल की ओर निकल गए, 


मिखायू से मेरी मुलाकात कासगंज सोरों जी के बीच गोरहा पर हुयी, वह साइकिल चलाते हुए सोरों जी की ओर जा रहे थे, मैंने आदरपूर्वक उन्हें रोककर अपना परिचय देते हुए उनकी इस रोमांचकारी साइकिल यात्रा के बारे में विस्तृत पूंछतांछ की, उन्होंने अपना नाम मिखायू उर्फ़ मिखाइल कोर्किन बताया, उन्होंने बताया कि वह रूस स्थित मोस्को शहर के निवासी हैं, वह साइकिल से विश्व भ्रमण करने के लिए 25 मई 2017 को निकले थे,



वह साइकिल द्वारा अपने देश रूस से बेलारूस पोलेंड चेक-गणराज्य ऑस्ट्रिया इटली फ़्रांस स्पेन मोरक्को मॉरिटानिया सेनेगल गुएना घाना टोगो बेनिन कैम्बरोन  गैबन कांगो नाम्बिया साउथ अफ्रीका वोट्सवाना जाम्बिया तंजानिया केन्या  इथोपिया सूडान मिस्र जॉर्डन सीरिया लेबनोन तुर्की इराक व ईरान होते हुए भारत के शहर …

जिलाधिकारी ही नहीं.. बृक्ष देवता कहिये,

Image
जिलाधिकारी ही नहीं.. बृक्ष देवता कहिये,
(अमित तिवारी) कासगंज : जनपद में इस बार जिस प्रकार से... जिस भावना से... जिस संकल्प से.. एक महा-अभियान के रूप में बृक्षारोपण कार्य किया जा रहा है.. वह सब देखकर अगर हम और आप कासगंज जिलाधिकारी को एक बृक्ष देवता की संज्ञा दें तो यह कहना अनुचित नहीं होगा, 


कासगंज जिलाधिकारी चन्द्र प्रकाश सिंह ने एक देवता के रूप में अपने डीएफओ उपदेवता दिवाकर वशिष्ठ के साथ मिलकर जनपद में 15 लाख 92 हज़ार 4 सौ 94 नव बृक्षों को रोपित करने का लक्ष्य निर्धारित किया है, नित्य प्रतिदिन एक महा-अभियान की भांति बृक्षारोपण की मोनिटरिंग की जा रही है, 




डीएफओ दिवाकर वशिष्ठ ने बताया कि जिलाधिकारी के निर्देशन में बीते 20 दिनों में 2 लाख से अधिक

अपहरण व गैंगरेप के आरोपी गिरफ्तार,

Image
(अमित तिवारी) कासगंज: बीते दिनों 4 जुलाई को कासगंज अमांपुर रोड पर एक महिला का स्विफ्ट गाडी से  अपहरण कर लूट करने एवं गैंगरेप करने की घटना घटित हुई थी, इसी बीच 5 जुलाई को जनपद मैनपुरी में भी इसी प्रकार की घटना घटित हुई थी, ये दोनों  घटना पुलिस के लिये चुनौती बनी हुई थीं, उक्त घटनाओं को एक चुनौती के रूप में लेकर पुलिस अधीक्षक कासगंज में सुशील घुले द्वारा उक्त घटना के सफल अनावरण के लिये अपर पुलिस अधीक्षक कासगंज डा0 पवित्र मोहन त्रिपाठी एवं क्षेत्राधिकारी नगर कासगंज के नेतृत्व में थाना कासगंज एवं स्वाट/ सर्विलांस की टीमों का गठन किया गया था, गठित टीमों द्वारा की जा रही कार्यवाही का पर्यवेक्षण स्वयं पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा किया जा रहा था, पुलिस टीमें निरंतर जनपद एवं आसपास के जनपद में अज्ञात बदमाशों व लूटे गये माल की तलाश कर रही थी, दो  दिवस पूर्व थाना पिलुआ एटा पुलिस द्वारा एक अभियुक्त अमित कुमार उर्फ अनिल कुगार गिरफ्तार किया गया था जिसके कब्जे से घटना में प्रयुक्त स्विफ्ट गाड़ी बरामद हुई थी, एटा पुलिस द्वारा गिरफ्तार अभियुक्तों से अपर पुलिस अधीक्षक कासगंज एवं थाना कारागंज पुलिस द्वारा…

हज़ारों चीखें न निकलें उससे पहले इसकी कराह सुन ली जाए तो बेहतर है,

Image
(अमित तिवारी) कासगंज: कुछ इंसान अपने क्षुद्र लाभ के लिए किसी भी अमूल्य बस्तु जीव प्रकृति पर्यावरण स्थान संपत्ति व ऐतिहासिक धरोहर को नुकसान पहुंचाने से भी गुरेज नहीं करते,  इसी इंसानी जिद और उसके अतिक्रमण के कारण कासगंज की ऐतिहासिक धरोहर नदरई एक्वाडक्ट अर्थात जलसेतु जो अब दिन प्रतिदिन जर्जर होता जा रहा है, इसके जर्जर होने की बजह इसके ऊपर से गुजरने बाला भारी यातायात है.... जो तमाम बंदिशों के बावजूद आज तक नहीं रोका जा सका, अब हालात ऐसे बन रहे हैं कि दुनियाभर में चर्चित कासगंज की यह ऐतिहासिक धरोहर  बेहद खतरे में है, अगर किसी भी कारण से यह एक्वाडक्ट अचानक टूटता होता है तो एक साथ हज़ारों लोगों के मरने की आशंका रहेगी, इसे रोकने के लिए हमें एहतियातन नदरई एक्वाडक्ट के ऊपर से गुजरने बाले यातायात को तत्काल प्रतिबंधित करना होगा,
इस संरचना की यथास्थिति जानने के लिए Structure Stability Survey कराना अनिवार्य हो चला है,
कासगंज के पूर्व जिलाधिकारी आरपी सिंह ने भी इस संदर्भ में संबंधित विभाग को एक नोटिस भेजा था, पर एक वर्ष के उपरांत भी इस एक्वाडक्ट    की सुरक्षा व संरक्षा को लेकर कोई ठोस नीति न बन सकी,